बेटा अब जवान हो गया 4

बेटा अब जवान हो गया 3 Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta Sex Kahani Indian Sex Chudai
Antarvasna संती ने उसका शेविग बॉक्स में सेरेजर निकाला और चांग को थमा दिया. चांग ने उसके चूत के बाल पर हाथ घसा और उसे धीरे धीरे रेज़र से साफ़ किया.
उसका लंड तौलिया के अन्दर तम्बू के तरह खड़ा था. किसी तरह उसने अपनेहाथ से चूत के बाल साफ़ किया. फिर उसने उसने अपनी माँ को सिगरेट दिया और खुद भी पीने लगा. वो लगातार अपनी माँ के चूची और चूत को ही देख रहा था और अपने तौलिये के ऊपर लंड को सहला रहा था.
चांग ने कहा – अब ठीक है. चूत के बाल साफ़ करने के बाद तू एकदम सेक्सी लगती है रे.
बसंती ने हँसते हुए कहा – चल हट बदमाश, सोने दे मुझे. खुद भी सो जा.कल तुझे कारखाना भी जाना है ना.
चांग ने अपना तौलिया खोला और खड़े लंड को सहलाते हुए कहा – देख ना माँ, तुझे देख कर मेरा लंड भी खडा हो गया है.
बसंती ने कहा – वो तो तेरा रोज ही खड़ा होता है. रोज की तरह आज भी मुठ मार ले.
चांग ने हँसते हुए कहा – ठीक है. लेकिन आज तेरे सामने मुठ मारने कामन कर रहा है.
बसंती ने कहा – ठीक है. आजा बिस्तर पर लेट जा और मेरे सामने मुठ मार ले. मै भी तो जरा देखूं कि मेरा जवान बेटा कैसे मुठ मारता है?
बसंती और चांग बिस्तर पर लेट गए. चांग ने बिस्तर पर अपनी माँ के बगल में लेटे लेटे ही मुठ मारना शुरू कर दिया. बसंती अपने बेटे को मुठ मारते हुए देख रही थी. पांच मिनट मुठ मारने के बाद चांग के लंड ने माल निकालने का सिग्नल दे दिया. वो जोर से आवाज़ करने लगा.उसने झट से अपनी माँ को एक हाथसे लपेटा और अपने लंड को उसके पेट पर दाब कर सारा माल बसंती के पेट पर निकाल दिया. ये सब इतना जल्दी में हुआ कि बसंती को संभलने का मौक़ा भी नही मिला. जब तक वो संभलतीऔर समझती तन तक चांग का माल उसके पेट पर निकलना शुरू हो गया था. बसंती भी अपने बेटे को मना नही करना चाहती थी. उसने आराम से अपने शरीर पर अपने बेटे को अपना माल निकालने दिया. थोड़ी देर में चांग का माल की खुशबु रूम में फ़ैल गयी. बसंती का पेंटी भी चांग के माल से गीला हो गया. थोड़ी देर में चांग शांत हो गया. और अपनी माँ के बदन पर से हट गया. लेकिन थोड़ी ही देर में उसने अपनी माँ के शरीर को अच्छी तरह दबा कर देख चुका था. बसंती भी गर्म हो चुकी थी. उसने भीअपने पुरे कपडे उतारे और बिस्तर पर ही मुठ मारने लगी. उसने भी अपनामाल निकाल कर शांत होने पर नींद मारी. सुबह होने पर बसंती ने आराम से बिछावन को हटाया और नया बिछावनबिछा दिया.
अगली रात को लाईट ऑफ कर दोनों बिस्तर पर लेट गए. बसंती ने चांग के पसंदीदा ब्रा और पेंटी पहन रखीथी. आज चांग अपनी माँ का इम्तहान लेना चाहता था. उसने अपनी टांग को पीछे से अपनी माँ की जांघ पर रखा. उसकी माँ उसकी तरफ पीठ कर के लेती थी. बसंती ने अपने नंगी जांघ पर चांग के टांग का कोई प्रतिरोध नहीं किया. चांग की हिम्मत और बढी.वो अपनी टांगो से अपनी माँ के चिकने जाँघों को घसने लगा. उसका लंड खडा हो रहा था. उसने एक हाथ को माँ के पेट पर रखा. बसंती ने कुछ नही कहा. चांग धीरे धीरे बसंती में पीछे से सट गया. उसने धीरे धीरे अपना हाथ अपनी माँ के पेंटी में डाला और उसके गांड को घसने लगा . धीरे धीरे उसने अपनी माँ के पेंटी को नीचे की तरफ सरकाने लगा.
पहले तो बसंती आसानी से अपनी पेंटी खोलना नही चाहती थी मगर चांग ने कहा – माँ ये पेंटी खोल ना.आज तू भी पूरी तरह से पूरी तरह से नंगी सोएगी. बसंती भी यही चाहती थी. उसने अपनी कमर को थोड़ा ऊपर किया जिस से कि चांग ने उसके पेंटी को उसके कमर से नीचे सरका दिया और पूरी तरह से खोल दिया. अब बसंती सिर्फ ब्रा पहने हुए थी. चांग ने उसके ब्रा के हुक को पीछे से खोल दिया और बसंती ने ब्रा को अपने शरीर से अलग कर दिया. अब वो दोनों बिलकूल ही नंगे थे. चांग ने अपनी माँ को पीछे से पकड़ कर अपने लंड को अपनी माँ के गांड में सटाने लगा. उसका तना हुआ लंड बसंती की गांड में चुभने लगा. बसंती को मज़ा आ रहा था. उसकी भी साँसे गरम होने लगी थी. जब बसंती ने कोई प्रतिरोध नही किया तो चांगने अपनी माँ के बदन पर हाथ फेरना चालु कर दिया. उसने अपना एक हाथ बसंती की चूची पर रख उसे दबाने लगा.
उसने माँ से कहा – माँ, मेरा मुठ मारने का मन कर रहा है.
बसंती – मार ना. मैंने मना किया है क्या?
चांग – आज तू मेरा मुठ मार दे ना माँ.
बसंती – ठीक है . कह कर वो चांग की तरफ पलटी और उसके लंड को पकड़ ली. खुद बसंती को अहसास नही था की चांग का लंड इतना जबरदस्त है. वो बड़े ही प्यार से चांग का लंड सहलाने लगी. चांग तो मानो अपने सुध बुध ही खो बैठा. वो अपने आप को जन्नत में पा रहा था. बसंती अँधेरे में ही चांग का मुठ मारने लगी. बसंती भी मस्त हो गयी.
वो बोली – रुक बेटा , आज मै तेरा अच्छी तरह से मुठ मारती हूँ. कह करवो नीचे झूकी और अपने बेटे चांग का लंड को मुह में ले ली. चाग को जबये अहसास हुआ कि उसकी माँ ने उसके लंड को मुह में ले लिया है तो वो उत्तेजना के मारे पागल होने लगा. उधर बसंती चांग के लंड को अपने कंठ तक भर कर चूस रही थी. थोड़ी ही देर में चांग का लंड माल मिन्कालने वाला था.
वो बोला – माँ – छोड़ दे लंड को माल निकलने वाला है.
बसन्ती ने उसके लंड को चुसना चालुरखा. अचानक चांग के लंड ने माल का फव्वारा छोड़ दिया. बसंती ने सारा माल अपने मुह में ही भर लिया और सबपी गयी. अपने बेटे का वीर्य पीना का आनंद ही कुछ और था. थोड़ी देर में बसन्ती ने चांग के लंड को मुह से निकाल दिया. और वो बाथरूम जा करकुल्ला कर के आई.
तब चांग ने कहा – माँ , तुने तो कमाल कर दिया.