भैया प्लीज मुझे चोदो वो पति ने नहीं

दोस्तों मेरा नाम गौरव है, मैं २३ साल का हु, Antarvasna Hindi Sex Stories Kamukta आज मैं आपको अपनी ज़िन्दगी का एक खूबसूरत पल को आपके सामने शेयर कर रहा हु, मुझे ये कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पे लिखते हुए अपार ख़ुशी हो रही है, ताकि आप सब भी मेरे कहानी को पढ़े तो मुझे और भी ज्यादा ख़ुशी होगी. ये कहानी और किसी की नहीं मेरी खूबसूरत पड़ोसन शालिनी की है, शालिनी २४ साल की है, उसके शादी को अभी २ साल हुए है पति मेनेजर है, पर वो अपनी पति के साथ खुश नहीं है, इसलिए वो मेरे पास बिन पानी की मछली के तरह आयी और मेरे से जिस्मानी रिस्ता कायम की, ये रिश्ता आज तक चला रहा है पर मैं पहले दिन जो हुआ था आज मैं उसी के बारे में आपको बता रहा हु,

शालिनी बहूत ही ज्यादा हॉट औरत है, उसका कोई भी बच्चा नहीं है. उसका बूब्स गांड पेट होठ नाभि ओह्ह्ह बहूत ही ज्यादा हॉट है. उसका रंग काफी गोरा है. वो हमेशा जीन्स पहनती है. उसकी चूचियां बड़ी गोल गोल और आगे की और तनी हुई लगती है. दोस्तों मैं सच बता रहा हु, मुझे लगता था मैं कही भी पकड़ कर उसको चोद दू, जब मैं शालिनी को देखता था मेरी बहसि आँखे उसके पुरे बदन को घूरता और उस रात वही वदन के बारे में सोच कर मूठ मारता. मुझे लगा की मूठ कब तक मारूँगा इसलिए मैंने शालिनी को पटाने की कोशिश करने लगा.

शालिनी का हस्बैंड १ महीने के लिए बंगलौर चला गया था काम से वो अपने फ्लैट में अकेली थी, मैं पहली मंज़िल पे रहता था वो दूसरी मंज़िल पे रहती थी, एक दिन रात को वो निचे उत्तर रही थी, मैं उसी समय बाहर निकला और मैं हाई कहा, वो भी मुझे हाय बोली, मैंने कहा आप कहा जा रही है, वो उन्होंने कहा मैं स्टोर से मोमबती लाने जा रही हु, मैंने कहा मैं ला देता हु, शालिनी बोली नहीं नहीं भैया कोई बात नहीं मैं ले आउंगी, पर मैं नहीं माना और निचे उतरने लगा. वो बोली भैया पैसे तो ले के जाओ. मैंने अनसुना करते हुए चला गया और मोमबती ले के आ गया, जब उनके घर का बेल्ल बजाय वो निकली वो तुरंत ही कपडे चेंज की थी, दरवाजा खोली नाईटी का हुक भी नहीं लगा था उनकी दोनों गोरी गोरी चूचियां दिखाई दे रही थी मेरी नजर उनकी चूचियां पर ही थी उनको पता चल गया था की मैं क्या देख रहा हु, वो बोली आ जाओ भैया, चाय पिलाती हु, मैं तो चाहता ही था की मुझे उनके घर में एंट्री मिले.

अंदर गया उन्होंने चाय बनाया और मैं चाय पि. फिर मैंने उनसे पूछने लगा की भैया नहीं दिखई दे रहे है आजकल वो बोली वो मुझे एक महीने के लिए तनहा छोड़ के गए है. फिर वो बोली ऐसा भी नहीं की मैं उनकी याद में मरी जा रही हु, वो रहते भी है तो किसी काम के नहीं है वो. मैंने कहा क्या बोल रही हो? वो बोली मेरे और उनके बिच सही सब कुछ नहीं है वो एक ऑफिस के औरत से उनका जिस्मानी रिश्ता है. वो मेरे तरफ ज्यादा ध्यान नहीं देते है पता नहीं उस चुड़ैल में क्या है और मेरे में क्या नहीं है. मैंने नहले पे दहला देते हुए बोला, हिरा को तो जोहरी ही समझ सकता है लुहार नहीं. वो बोली क्या इसका मतलब आप मुझे समझ पा रहे है. मैंने कहा हां जी मैं समझ पा रहा हु आपकी हालत, मैंने एक गहरी सांस लेते हुए बोला पर कर भी क्या सकता हु, मेरे किस्मत में कहा. वो मुस्कुरा के बोली, किस्मत को क्यों कोस रहे हो, दुनिया की कोई भी ऐसी चीज नहीं है, जिसको इंसान पा नहीं सकता, मैंने कहा सच वो बोली सच.

मैंने कहा आप मुझे बहूत सुन्दर लगते हो. बहूत ही ज्यादा हॉट लगती हो, मैं आधी रात तक आपके बारे में ही सोचते रहता हु. वो बोली सच बताऊँ मैं भी आपके गठीले बदन पर फ़िदा रहती हु, इतना सुनते ही मैं वो और एक दूसरे में लिपट गए. और एक दूसरे को होठ को चूसने लगे. मेरा हाथ उनके बूब्स पे पहुच गया, और मसलने लगा. वो आह आह आह कर रही थी. मैंने उनके चूतड़ पे हाथ फेरने लगा. और फिर से बूब्स पे, उन्होंने कहा दरवाजा बंद कर के आती हु, और वो मेन दरवाजा बंद कर के आई और मेरे में लिपट गई. मैंने गोद में उठाया और पलंग पर ले गया और वह गिरा दिया, वो मुझे मुस्कुराते हुए बोली, भैया प्लीज मुझे चोदो वो पति ने नहीं दिया वो मुझे दो, मैंने कहा पहले तो आप मुझे भैया नहीं बोलो गौरव बोलो, तो वो बोली चलो गौरव भी नहीं भैया भी नहीं आज के लिए मेरी सैया बन जाओ, मैंने कहा बना लिया आज के लिए तुम्हे अपना बीवी.

और मैंने उनके जीन्स को खोल दिया और ऊपर से वो खुद ही टी शर्ट उतार दी. मैंने उनके ब्रा को उतार दिया, हाय!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!! गजब का बूब था, कत्थई रंग का निप्पल छोटा छोटा, गोल गोल बड़ा बड़ा बूब्स, मैं टूट पड़ा उनके बूब्स पे, पिने लगा वो मेरे बाल को सहलाते हुए, अपने बूब को मेरे मुह से दे रही थी और मैं पि रहा था. उनकी दोनों चूचियां तन गई थी मैंने उनके पेंटी को उतार दिया और उनके चूत पर हाथ फेर चूत काफी गरम हो चुकी थी. और चिपचिपा सा पदार्थ निकल रहा था, पूरी चूत गीली थी. मैंने उस रसीले पदार्थ को ऊँगली में लगा पर अपने जीभ पर रखा, वो मैं पागल हो गया, मेरे लंड और भी मोटा हो गया, मैंने कहा क्या क्या आपके पति नहीं करते है. तो शालिनी बोली वो मेरे चूत को नहीं चाटते है. मैंने तुरंत ही निचे हुआ पैर को अलग अलग किया, और चूत चाटने लगा. खूब चाटा, वो बार बार पानी छोड़ रही थी. फिर मैंने कहा और क्या नहीं करते है आपके पति. वो बोली मेरी गांड नहीं चाटते है. मैंने तुरंत उनके पेट के बल लिटाया और उनके गांड के छेद पर अपनी जीभ घुसा दी. और चाटने लगा. वो काफी कामुक हो चुकी थी.

वो बोली मुझे आज इतना चोदो जब तक मेरे बदन के आग बुझ नहीं जाये. मैंने तुरंत उनके सीधा किया, और अपने लंड को उनके चूत के टिका के, जोर से धक्का मारा, पूरा चूत पहले गीली थी, मेरा मोटा लंड उनके चूत में दाखिल हो गया. वो कराह उठी. बोली आज तक मेरे चूत में इतना मोटा लंड नहीं गया था. मेरे पति का लंड काफी छोटा है. मैंने उनके चूत में अपने लंड को अंदर बाहर करना शुरू कर दिया. वो भी गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी. मैं जोर जोर से धक्के देने लगा. वो हरेक धक्के पे हाय हाय करती और मैं भी गाली देते हुए लंड को पेलने लगा.

उनकी चूचियां झटके से हिल रही थी. मैंने तुरंत ही अपने हाथो में उनकी दोनों चूचियां को जकड लिया. और जोर जोर से धक्के देने लगा. फिर मैं निचे हो गया वो ऊपर हो गई. वो अपनी चूत में मेरा मोटा लंड ले ली और कोल्हू के तरह घूमने लगी. फिर चपक चपक कर के अपने गांड को मेरे लंड पर बजाड़ने लगी. मेरा लंड अंदर तक जा रहा था वो दांत पीस पीस कर अपने चूत में लंड को लिए जा रही थी. मैंने भी जोश में आ गया, मैंने कहा अब मेरा निकलने बाला है. वो बोली चूत में नहीं डालना मैं पिऊँगी, मैंने तीन चार झटके दिया. और मैंने कहा अब निकलेगा वो तुरंत ही निचे हुई और मेरे लंड को अपने मुह में ले ली. तभी मैं झड़ गया.

वो मेरे वीर्य को बड़े ही चाव से पि गई और मेरे लंड को चुस्ती रही जब तक की ढीला नही पड़ गया. आप ये कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पे पढ़ रहे है. उसके बाद हम दोनों एक दूसरे को पकड़ कर वही पड़े रहे. काफी थक गए थे रात के नौ बज गए थे. उन्होंने कहा, आज रात यही रुको, मैंने कहा ठीक है. मैंने कहा मैं बाहर से आता हु, मैंने अपनी बाइक निकाली, बाहर से खाना लाया, बियर लाया, दोनों ने चिकन खाया बियर पि, उस समय वो ब्रा और पेंटी में थी और मैं जांघिया पे. फिर से हम दोनों चुदाई करने लगे. दोस्तों रात भर चुदने के बाद उनकी चूत काफी सूज गया था सुबह वो ठीक से चल भी नहीं रही थी. मैंने कहा आपको तकलीफ हो रही है. वो बोली इस तकलीफ में ही तो मजा है.

और दोनों हँसने लगे. और एक दूसरे के बाहों में आ गए और फिर से चुदाई. दोस्तों शालिनी का पति ३० दिन तक नहीं आने बाला है मैंने बिस दिन से मैंने शालिनी को चोद रहा था पूरी रात. वो खूब खुश नहीं, मैंने भी खुश हु, अब देखिये क्या होता है जब दस दिन बाद उसका पति वापस आएगा.