पति से नहीं किसी और से चुदने

डिअर फ्रेंड, समाज से ऐसे औरत को क्या कहा जाता है जो की पति के अलावा भी किसी और की बाहों में जाना चाहती है, पर क्या करे कैसे करूँ मैं समाज का परवाह, मुझे गैर मर्दो से चुदना अच्छा लगता है, आप इसे क्या कहेंगे मेरी पागलपन या वासना में डूबी हुयी औरत खैर आप जोर कहे मैं परवाह नहीं करती ना तो आपकी ना तो समाज की, मुझे कोई नहीं रोक सकता, अगर कोई रोक ले तो मेरी ज़िंदगी ख़राब हो जाएगी क्यों की मुझे चाहिए रोज चाहिए वो भी सिर्फ एक से नहीं मुझे अलग अलग चाहिए.

मेरे प्यारे दोस्त आज मैं आप से नम्र निवेदन करती हु की मुझे गलत ना समझे, आपके सपोर्ट की जरूरत है, मैं आपके सामने ज़िंदगी का ये पन्ना आपके सामने खोल रही हु, जिसको आज तक कोई ना पढ़ा है और जिसने पढ़ा है उसने समझा नहीं है आप हमें जाऊर कमेंट करें आज ऐसे पढ़ के नहीं जाये, आज मुझे आपकी जरूरत है, मैं कोई नाटककार या फिल्मकार नहीं हु जो हु बहु आपके सामने अपने शब्दों को पेश कर सकूँ पर इतना कोशिश जरूर करुँगी की आपको मेरी बात समझ में आ जाये.

मैं अनामिका उम्र 26 साल शादी के हुए २ साल हुए है, पेशा ब्यूटी पारलर का काम है, अपना पारलर है जिसमे ४ लड़कियां भी काम करती है, अच्छी खासी कमा लेती हु, पति का चांदनी चौक में दुकान है गारमेंट का, घर में एक देवर है और बूढ़े सा ससुर, किसी चीज की कोई दिक्कत नहीं है पर मुझे जो दिक्कत है वो है मेरी वासना, में जब भी किसी पुरुष को देखती हु, मुझे सेक्स करने का मन करने लगता है, आप ये समझ ले की अगर मुझे कोई बस स्टैंड पे दिख जाए और मुझे इशारा करे तो मैं उसके साथ चल दूंगी. ये सब हुआ कैसे मैं बताती हु,

मैं देखने में बहुत ही सुन्दर हु, मेरी शरीर की बनावट एक सम्पूर्ण औरत की है आप मुझमे कही से कोई कमी नहीं निकाल सकते, मेरा बूब का साइज ३४ है मेरा वजह ५५ किलो है, मैं बहुत ही गोरी हु, मैं हमेशा वेस्टर्न ड्रेस पहनती हु, मैं बहुत मौज मस्ती करने बाली हु, पर मेरा पति वो ज्यादा इश्क़वाज नहीं नहीं, वो दिन भर व्यापार व्यापार ही करते रहता है, पैसा तो माल तो पेमेंट यहाँ तक की रात को भी वो बही खाता में लगा रहता है, कभी कभी वो टाइम देता है तो पूरा देता है, वियाग्रा खाके मुझे चोद चोद के मेरा हालत खराब कर देता है, पर मैं ऐसे नहीं चुदना चाहती मैं चाहती हु रोज रोज हौले हौले से मेरी चुदाई हो,

एक दिन की बात है, मेरा सास ससुर घर पे नहीं थे वो किसी रिलेटिव के यहाँ गए था मेरा देवर घर पे था, मैं बाथरूम में नहा रही थी, और मैं फिसल गई, देवर तुरंत दौड़ के आया मैं नंगे नहा रही थी वो मुझे देख लिया, मुझे काफी चोट आ गई थी, उसने मुझे उठाया, मैं मना भी नहीं कर पाई, वो मुझे बेड रूम में ले गया और फिर नौबत ही ऐसी आ गई की मैं अपने देवर से चुद गई, उसने अपना लैपटॉप खोल के एक एडल्ट इंग्लिश फिल्म लगा लिया और जैसे जैसे वो चूत को फिल्म में चाट रहा था वो भी मुझे मेरे चूत को चाटने लगा, मैं उस दिन काफी उत्तेजक हो गयी थी, मैं आज तक एडल्ट मूवी देखते हुए नहीं चुदी थी पर आज मैं खूब एन्जॉय की, खूब चुदी वैसे ही जैसे की मूवी में हो रहा था,

उसके बाद मुझे चुदाई का नशा हो गया, मैं देवर से और पति से दोनों से चुदने लगी, जब मेरा पति कभी बहाना बनाता था आज मैं थका हु, मैं जबर्दश्ती अपने कपडे उतार के उसके लंड को मुह में लेके चुस्ती और जैसे ही खड़ा होता मैं खुद ही उसके ऊपर चढ़ के चुद लेती, दिन में देवर को जब मेरा पति घर से बाहर चला जाता था मैं देवर से चुदने लगी, रोज रोज चुदती थी, जब देवर भी ऑफिस जाने लगा अब मैं सामने दुकान में एक लड़का रहता था मैं होम डिलीवरी का आर्डर देती और उससे भी चुदने लगी, कई बार तो मैंने पिज़्ज़ा आर्डर की और मैंने पिज़्ज़ा डिलीवरी बॉय से भी चुदवाई. मुझे नशा हो गया मुझे रोज रोज नया नया लंड चाहिए,

हद तो तब हो गयी थी जब मैं मायके गई वह मेरा छोटा भाई, था मैंने उससे जबर्दश्ती सेक्स सम्बन्ध बना ली, पर दूसरे दिन मुझे उसने समझाया की ये सब क्या है और आपने ऐसा क्यों किया, आप तो जवान यही हुए हो मेरे साथ खेले हो आज तक साथ रहे है पर आज तक हम दोनों के बीच में कोई भी सम्बन्घ नहीं बना पर जब से शादी हुयी है आपकी आज आपने पहली बार ऐसा किया है, फिर मैंने उसको साफ़ साफ़ बता दी की जब से मैंने एक एडल्ट मूवी देखि है और देवर जी से चुदवाई है तब से मुझे खूब चुदने का मन कर रहा है. फिर छोटा भाई ने समझाया की ये सब गलत है ऐसा मत करना ज़िंदगी खराब हो जाएगी.

दो महीने तक तो सब कुछ नार्मल रखने की कोशिश की थी पर आज कल मुझे फिर से वही पुरानी आदत पे उत्तर आई हु, आज मैंने कूरियर बाले भैया से चुदवाई. आज कल मेरे सम्पर्क में ६ मर्द है जिससे मैं बारी बारी से चुद्वाते रहती हु, मैं क्या करूँ प्लीज अपनी राय दे,

<